” 
धोनी ने टेस्ट क्रिकेट से सन्यास और कप्तानी छोड़ने के साथ ही यह हिन्ट दे दिया था की वो आगे वनडे और ट्वंटी से भी जल्द ही कप्तानी छोड़ देंगे उन्होंने दक्षिण अफ्रीका के साथ सीरीज कंप्लीट होने के बाद धोनी ने यह कहा था की टीम इंडिया को तीनो फॉर्मेट में एक ही कप्तान चाहिए ।
इसीलिए अगर वो कप्तानी नही छोड़ते तो मामला वही पर अटका रहता ।धोनी का मनना है की इंडिया का तीनो फॉर्मेट में एक ही कप्तान होना चाहिए ताकि वो पूरी टीम को समेट सके। धोनी ने कहा की उन्हें कभी तो कप्तानी छोड़नी ही थी तो उन्होंने अभी ही छोड़ दी ताकि और सभी खिलाडी आगे बढ़ सके । धोनी खुद से ज्यादा टीम और देश के बारे में सोचते है ।