कहा जाता है की राधा के नाम से श्रीकृष्ण के नाम अलग नहीं किया जाता हैं। कहा जाता है की जहाँ राधा का नाम होता हैं वहां श्रीकृष्णा का नाम होता है। और जहाँ कृष्णा का नाम होता है वहां राधा का नाम होता हैं। परन्तु आज हम आपको वो बता रहे हैं जहाँ श्री कृष्णा का नाम तो हैं पर कहीं पर भी राधा का नाम नहीं हैं। भगवान श्री कृष्ण को प्रेम लीला करने वाले भगवान माने जाते हैं। कहा जाता है की प्रेम यानी प्यार का मतलब इन्होने ही दुनिया को बताया था। पर आप यह जानकार हैरान हो जाओगे की श्रीमद् भागवत गीता और महाभारत में राधा का कहीं पर भी वर्णन नहीं हैं।कहीं पर भी नहीं मिलता राधा का नाम – आपको यह जानकार हैरानी होगी की भागवत गीता और महाभारत दोनों में श्री कृष्णा की हर लीला का वर्णन किया गया है। पर किसी में भी राधा का जिक्र भी नहीं हुआ है। वैसे आपको बता दूँ की अनुराधा का जिक्र भगवान श्री कृष्ण की हर एक लीला में किया गया है तो आज  हम आपको अनुराधा और राधा के बारे में बताने वाले हैं।
गोपियों के साथ अनुराधा – जहाँ भी गोपियों का जिक्र होता है वहां अनुराधा का जिक्र होता हैं। पर अक्सर कथा वाचन करने वाले इस नाम को राधा में कन्वर्ट कर देते हैं। माना जाता हैं की राधा नाम सिर्फ और सिर्फ काल्पनिक हैं। श्री कृष्ण के गीत गोविंद की रचना में उन्होंने अनुराधा को राधा बताया था और उसके बाद श्री कृष्ण के साथ अनुराधा का नाम राधा में बदल दिया गया।