आपने सुना और पढ़ा होगा की श्री कृष्ण जी के 16,000 पत्नियाँ थी, पर इसके पीछे की कहानी शायद ही आपने कहीं पढ़ी और सुनी होगी। वैसे भारत इतिहास से भरा पड़ा है यदि हम यहाँ के इतिहास को पढ़ते है तो हमें अनेक ऐसी बातें पढने को मिलती है, जिनका हमें आज तक ज्ञान नहीं होता है। आज इतिहास से जुड़ी कुछ ऐसी ही बातों को आपके सामने लेकर हम आये हैं, की आखिर क्यों श्री कृष्ण को 16,000 स्त्रियों से शादी करनी पड़ी थी। शश्रीमदभागवत गीता के अनुसार ऐसा इसलिए हुआ की राम ने कुछ लड़कियों को वचन दिया था और उस वचन का पालन करने के लिए उन्होंने श्री कृष्ण के अवतार में जन्म लिया।

नरकासुर ने 16 हजार स्त्रियों को बंदी बना रखा था – इतिहास में नरकासुर नाम का एक राक्षस था उसने प्रण ले रखा था की वो 1 लाख स्त्रियों से शादी करेगा, और इसलिए उसने 16,000 स्त्रियों को बंदी बना रखा था।

जंगल में श्री राम ने दिया था वचन – एक बार श्री राम जंगल में जाते है वहां वो नरकासुर की गुफा देखते है। कहते है की उस गुफा के आगे लगा पत्थर हटाना किसी के वश की बात नहीं थी पर श्री राम ने उस पत्थर को हटाया और देखा की 4 स्त्रियाँ तपस्या में लीन है और जब भगवान ने उन्हें स्पर्श किया तो वो सुंदर स्त्रियाँ बन गई। कहते है जब उनकी आंख खुली तो उन्होंने भगवान को देख उनसे शादी करने की इच्छा जताई। भगवान ने कहा की ऐसा क्यों बोल रही है? तो उन्होंने बताया की नरकासुर उनसे शादी करना चाहता है, हमारी तरह यहाँ 16,000 स्त्रियाँ है जिन्हें उसने बंदी बना रखा है। ऐसे में यदि आप हमसे शादी कर लो तो उसका यह प्रण अधुरा रह जायेगा।

श्री राम ने कहा यह – श्री राम ने कहा की इस जन्म में तो मैंने एक ही पत्नी का व्रत धारण किया है और मैं इसे तोड़ नहीं सकता, परन्तु आपको में वचन देता हूँ की आपकी शादी मुझसे ही होगी। भगवान ने उस वक्त उनको वचन दिया की आगे चलकर वो श्री कृष्ण के अवतार में जन्म लेंगे और आपका उद्धार करेंगे।

श्री कृष्ण ने की उन स्त्रियों से शादी – कहा जाता है की उन्ही स्त्रियों से श्री कृष्ण ने शादी की थी, यह शादी मात्र वचन पूरा करने के लिए ही की गई थी। कहा यह भी जाता है की उन्ह्सी स्त्रियों में से वो 4 स्त्रियाँ जो श्री राम से मिलती है उनका नाम मित्रविंदा, नाग्नजिती, मुद्रा व लक्ष्मणा थी। इन्होने श्री कृष्ण काल में इन्हें श्री कृष्ण की पत्नी होने का सोभाग्य मिला था।